प्रेम की पवित्रता: विवाह से ही पवित्र प्रेम होता है। विवाह से पहले या बाद अवैध संबंध अनैतिक और विनाशकारी हैं।

0 189

प्रेम की पवित्रता: 

विवाह से ही पवित्र प्रेम होता है। विवाह से पहले या बाद अवैध संबंध अनैतिक और विनाशकारी हैं।

Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com


Related Quotes