Browsing tag

Quotes in Hindi

अजान और इक़ामत के बिच में दुआ रद्द नहीं की जाती, इसीलिए तुम दुआ करो [हदीस: मुसनदे अहमद 13357] #IslamicQuotes

۞ हदीस : अल्लाह के नबी (ﷺ) ने फ़रमाया : “अजान और इक़ामत के बिच में दुआ रद्द नहीं की जाती, इसीलिए तुम दुआ करो।” 📕 मुसनदे अहमद 13357  

अल्लाह के साथ शिर्क न करना अगरचे तुम टुकड़े टुकड़े कर दिए जाओ और जला दिए जाओ। [हदीस: इब्ने माजाह 4034] #IplusTV #IslamicQuotes

۞ हदीस : अल्लाह के पैगम्बर (ﷺ) ने फ़रमाया : “अल्लाह के साथ शिर्क न करना अगरचे तुम टुकड़े टुकड़े कर दिए जाओ और जला दिए जाओ।” 📕 सुनन इब्ने माजाह; 4034 – सहीह

मुसलमान, मुसलमान का भाई है, न उसपर जुल्म करे और न उसे (किसी ज़ालिम के) सुपुर्द करे और जो शख्स अपने किसी भाई की ज़रूरत पूरी करने में लगा होगा, अल्लाह उसकी ज़रूरत और हाजत पूरी करेगा। [सही बुखारी 6951] 

कल्याणकारी मधुर संदेश अंतिम ईशदूत मुहम्मद (ﷺ) ने फरमाया: “मुसलमान, मुसलमान का भाई है, न उसपर जुल्म करे और न उसे (किसी ज़ालिम के) सुपुर्द करे और जो शख्स अपने किसी भाई की ज़रूरत पूरी करने में लगा होगा, अल्लाह उसकी ज़रूरत और हाजत पूरी करेगा।” [सही बुखारी 6951] #IslamicQuotes by Quotes.Ummat-e-Nabi.com

शांतिभाव इस्लाम का प्रधान लक्षण है। तथा मुस्लिम और मुस्लमान वही है जिसने परमात्मा और मनुष्य अर्थात सृष्टा और सृष्टि दोनों के साथ शान्ति स्थापित कर ली हो। #IslamicQuotes

इस्लाम का पावन नाम उसके अनुयायिओं की कल्पना का परिणाम नहीं। बल्कि ये एक गुणात्मक नाम है उस धर्म का जो हमेशा से चला आ रहा है। इस्लाम शब्द का अर्थ “शान्ति” है। साथ ही इस्लाम शब्द का मौलिक अर्थ है ‘शान्ति की स्थापना’। अत: शांतिभाव इस्लाम का प्रधान लक्षण है। तथा मुस्लिम और मुस्लमान […]

मुहम्मद सलल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के रसूल है। [पवित्र कुरआन ३३:४०] #IslamicQuotes

अल्लाह तआला फरमाता है : “मुहम्मद सलल्लाहु अलैहि वसल्लम  अल्लाह के रसूल है। “ [ पवित्र कुरआन ३३:४० ] Allah Ta’ala farmata hai: “Muhammad Salallahu Alaihi Wasallam Allah ke Rasool hai.” 📕 Al-Quran 33:40 📕 Fb.com/AIBalaghAIC

Allah ki Nazar me sabse behtareen amal wo hai jo humesha kiya jaye.

पैग़म्बर मुहम्मद (ﷺ) ने फ़रमाया: ❝ अल्लाह की नज़र में बेहतरीन अमल वो है जो हमेशा किया जाए चाहे वह थोड़ा ही क्यों न हो।❞ [बुख़ारी, मुस्लिम] | #IslamicQuotes by Quotes.Ummat-e-Nabi.com

अल्लाह (परमेश्वर) से हटकर तुम जिन्हें पुकारते हो वे एक मक्खी भी पैदा नहीं कर सकते…

पवित्र कुरआन का दिव्य संदेश “ऐ लोगों! एक मिसाल पेश की जाती है। उसे ध्यान से सुनो, अल्लाह (परमेश्वर) से हटकर तुम जिन्हें पुकारते हो वे एक मक्खी भी पैदा नहीं कर सकते। यद्यपि इस के लिए वे सब इकट्ठे हो जाएं, और यदि मक्खी उनसे कोई चीज़ छीन ले जाए तो उससे वे उस […]