Browsing tag

आलोक

यदि एक दास दुनिया में दूसरे कि कमियों को छिपाता है, तो अल्लाह उसकी कमियों को पुनरुत्थान दिवस पर छिपा देगा। [हजरत मुहम्मद ﷺ]

किसी की कमियों का खुलासा न करें :   “यदि एक दास दुनिया में दूसरे कि कमियों को छिपाता है, तो अल्लाह उसकी कमियों को पुनरुत्थान दिवस पर छिपा देगा।” (हजरत मुहम्मद ﷺ) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

जब आप करी (सालन) पकाते हैं, उसमें थोड़ा पानी ज्यादा डालें ताकि आपके पडोसी को भी बाट सके। [हजरत मुहम्मद ﷺ]

अपने पड़ोसियों का भी ख्याल रखें :   “जब आप करी (सालन) पकाते हैं, उसमें थोड़ा पानी ज्यादा डालें ताकि आपके पडोसी को भी बाट सके।” (हजरत मुहम्मद ﷺ) (सहीह मुस्लिम) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

हर सुबह फुसफुसाती है: “हे मनुष्य! मैं एक नया दिन हूँ, तुम्हारे कर्मों का साक्षी। मेरा फायदा उठाओ, चला गया तो मैं वापस नहीं आता।” [हसनुल बसरी]

हर सुबह फुसफुसाती है :   “हे मनुष्य! मैं एक नया दिन हूँ, तुम्हारे कर्मों का साक्षी। मेरा फायदा उठाओ, चला गया तो मैं वापस नहीं आता।” (हसनुल बसरी) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

वास्तव में, अल्लाह किसी जाति की दशा नहीं बदलता, जब तक वह स्वयं अपनी दशा न बदल ले। [कुरआन १३:११]

परिवर्तन चाहने वालों के लिए… :   “वास्तव में, अल्लाह किसी जाति की दशा नहीं बदलता, जब तक वह स्वयं अपनी दशा न बदल ले…” (कुरआन  १३:११ ) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

पैगंबर मोहम्मद ﷺ कभी भी भोजन की शिकायत नहीं करते थे। अगर अच्छा लगा तो खाते थे और अच्छा न लगा तो नहीं खाते थे। [बुखारी, मुस्लिम]

भोजन को लेकर कभी शिकायत न करें :   “अबू हुरैरा (र) ने कहा: पैगंबर मोहम्मद ﷺ कभी भी भोजन की शिकायत नहीं करते थे। अगर अच्छा लगा तो खाते थे और अच्छा न लगा तो नहीं खाते थे। “ (बुखारी, मुस्लिम) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

कथन और कारवाई में सीमा पार करनेवाले का विनाश है। [पैगंबर मोहम्मद ﷺ | स्रोत: सहीह अल मुस्लिम]

अधिशेष आपतकार है :   “कथन और कारवाई में सीमा पार करनेवाले का विनाश है।” (पैगंबर मोहम्मद ﷺ) स्रोत: सहीह अल मुस्लिम Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

नशा खतरनाक है: “थोड़ा भी खतरनाक है“ ज़्यादा लेने पर मदहोशी देने वाले का थोड़ा भी निषिद्ध है।” [पैगंबर मोहम्मद ﷺ]

नशा खतरनाक है :   “थोड़ा भी खतरनाक है “ज़्यादा लेने पर मदहोशी देने वाले का थोड़ा भी निषिद्ध है।”” (पैगंबर मोहम्मद ﷺ) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

तीन कार्य जिसमें है, वह सुनिश्चित कपटी है। झूठी बोली, वादा न निभाना और धोखेबाज होना।” [पैगंबर मोहम्मद ﷺ]

कपट त्याग दें :   “तीन कार्य जिसमें है, वह सुनिश्चित कपटी है। झूठी बोली, वादा न निभाना और धोखेबाज होना” (पैगंबर मोहम्मद ﷺ) स्रोत: सहीह अल बुखारी ३३, सहीह अल मुस्लिम ५९ Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

सिनेमा और धरावाहिक के मुताबिक ज़िन्दगी को मोडना मूर्खता है। सिनेमा की नाट्य नहीं बल्कि कच्चा तजुर्बा है ज़िन्दगी।

कहानी नहीं है ज़िन्दगी :  “सिनेमा और धरावाहिक के मुताबिक ज़िन्दगी को मोडना मूर्खता है। सिनेमा की नाट्य नहीं बल्कि कच्चा तजुर्बा है ज़िन्दगी।” Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

अवैध/गैरकानूनी रिश्ते अनैतिक है, यह दो व्यक्तियों के पाप से बढकर, अनेक लोगों के पारिवारिक संबंध को नष्ट-भ्रष्ट करनेवाली सामाजिक आपदा है। [Wisdom Media School]

अवैध रिश्तों में खतरा : “अवैध/गैरकानूनी रिश्ते अनैतिक है। यह दो व्यक्तियों के पाप से बढकर, अनेक लोगों के पारिवारिक संबंध को नष्ट-भ्रष्ट करनेवाली सामाजिक आपदा है।” Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

सुनिश्चत, अल्लाह आपके रूप या धन की ओर नहीं देखते; बल्कि देखते हैं आपके दिल और कर्म की ओर। [हजरत मुहम्मद ﷺ]

सुधार चाहिए दिल को।   “सुनिश्चत, अल्लाह आपके रूप या धन की ओर नहीं देखते; बल्कि देखते हैं आपके दिल और कर्म की ओर।” (हजरत मुहम्मद ﷺ) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

कानून पालक का काम जनता को सुरक्षा देना है; उनको सज़ा देना नहीं। उनका शस्त्र आक्रमण रोकने का है; आक्रमण करने का नहीं। [Wisdom Media School]

कानून पालन जनद्रोहात्मक न हों :   “कानून पालक का काम जनता को सुरक्षा देना है; उनको सज़ा देना नहीं। उनका शस्त्र आक्रमण रोकने का है; आक्रमण करने का नहीं।” Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

जब अधिकार क्षेत्र अंधा हो जाता है, तब राय जुल्म हो जाता है। लोकतंत्र में बहुमत, अभिव्यक्ति के अधिकार को दबाने का नहीं। [Wisdom Media School]

विचार प्रकट पर कारागृह ? :   “जब अधिकार क्षेत्र अंधा हो जाता है, तब राय जुल्म हो जाता है। लोकतंत्र में बहुमत, अभिव्यक्ति के अधिकार को दबाने का नहीं।” Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

और (हे मनुष्य!) तेरे पालनहार ने आदेश दिया है कि उसके सिवा किसी की इबादत (वंदना) न करो तथा माता-पिता के साथ उपकार करो।” [कुरआन १७:२३]

अच्छाई उदारता नहीं है:  माता-पिता के साथ अच्छा बर्ताव अनिवार्य है उदारता नहीं। “और (हे मनुष्य!) तेरे पालनहार ने आदेश दिया है कि उसके सिवा किसी की इबादत (वंदना) न करो तथा माता-पिता के साथ उपकार करो।” (कुरआन १७:२३) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

अरबी; एक जीवित भाषा: “३६ देशों में ४२ करोड़ जनता, संयुक्त राष्ट्र की एक आधिकारिक भाषा। १८० करोड विश्वासियों वाला अंतिम वेद की अद्भुत भाषा। [Wisdom Media School]

अरबी; एक जीवित भाषा:  “३६ देशों में ४२ करोड़ जनता, संयुक्त राष्ट्र की एक आधिकारिक भाषा। १८० करोड विश्वासियों वाला अंतिम वेद की अद्भुत भाषा।” Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

विरोध समस्यावों के हल के लिए होना चाहिए, नई समस्याएं पैदा करने के लिए नहीं। [कुरआन २:२५६]

समझ भावना को संयम में लता है:  “विरोधे समस्यावों के हल के लिए होना चाहिए, नई समस्याएं पैदा करने के लिए नहीं।” (कुरआन २:२५६) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

धर्म स्वैच्छिक है: “धर्म में बल प्रयोग नहीं। सुपथ कुपथ से साफ-साफ अलग हो चुका है। [कुरआन २:२५६]

धर्म स्वैच्छिक है:  “धर्म में बल प्रयोग नहीं। सुपथ कुपथ से साफ-साफ अलग हो चुका है।” (कुरआन २:२५६) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

प्रेम की पवित्रता: विवाह से ही पवित्र प्रेम होता है। विवाह से पहले या बाद अवैध संबंध अनैतिक और विनाशकारी हैं।

प्रेम की पवित्रता:  विवाह से ही पवित्र प्रेम होता है। विवाह से पहले या बाद अवैध संबंध अनैतिक और विनाशकारी हैं। Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

अमन का मार्ग: जो लोग ईमान लाये और अपने ईमान को अत्याचार (शिर्क) से लिप्त नहीं किया, उन्हीं के लिए शान्ति है तथा वही मार्गदर्शन पर हैं। [कुरआन 6:82]

अमन का मार्ग:  जो लोग ईमान लाये और अपने ईमान को अत्याचार (शिर्क) से लिप्त नहीं किया, उन्हीं के लिए शान्ति है तथा वही मार्गदर्शन पर हैं। (कुरआन 6:82) Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

एक धर्मनिरपेक्ष देश में; नागरिकता तय करने के लिए धर्म मानदंड नहीं होना चाहिए। विविधता में एकता हमारी संस्कृति की सुंदरता है।

धर्म, राष्ट्र, संस्कृति। एक धर्मनिरपेक्ष देश में; नागरिकता तय करने के लिए धर्म मानदंड नहीं होना चाहिए। विविधता में एकता हमारी संस्कृति की सुंदरता है। Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

झूठे वादे और चमक-धमक वाले उपहारों के द्वारा अनुचित कर्म करवाने का आह्वान करने वाले, दोस्त नहीं धोखेबाज हैं। नकली संबंधों में अपनी गरिमा और जीवन का बलिदान न करें।

धोकेबाजी से सावधान रहें। झूठे वादे और चमक-धमक वाले उपहारों के द्वारा अनुचित कर्म करवाने का आह्वान करने वाले, दोस्त नहीं धोखेबाज हैं। नकली संबंधों में अपनी गरिमा और जीवन का बलिदान न करें। Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

धर्म आत्मज्ञान के लिए है। “आस्था, कर्म और संस्कृति का संगम जब होता है तब धर्म प्रबुद्ध होता है। इन में से एक की भी कमी धर्म की आत्मा को नष्ट कर देती है।

आलोक धर्म आत्मज्ञान के लिए है। “आस्था, कर्म और संस्कृति का संगम जब होता है तब धर्म प्रबुद्ध होता है। इन में से एक की भी कमी धर्म की आत्मा को नष्ट कर देती है।” Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

सत्य साधक के लिए कुरआन मार्गदर्शक है। “वास्तव में, ये कुरआन वह मार्ग दिखाता है, जो सबसे सीधी है…” (कुरआन 17:9)

सत्य साधक के लिए कुरआन  मार्गदर्शक है। “वास्तव में, ये कुरआन वह मार्ग दिखाता है, जो सबसे सीधी है…” (कुरआन  17:9) Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

संदेह पैदा करनेवाले को छोड़कर निःसंदेह वाले को स्वीकार करें। सत्य शांति है और असत्य शंका।” (हजरत मुहम्मद ﷺ)

अनिश्चित्व/ संदेह में शांति नहीं। “संदेह पैदा करनेवाले को छोड़कर निःसंदेह वाले को स्वीकार करें। सत्य शांति है और असत्य शंका।” (हजरत मुहम्मद ﷺ) Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

कुरआन ऐसी चमत्कार है जो समय की कसौटी और ज्ञान के विस्तार को पराजित कर लिया है। “वास्तव में, हमने ही ये कुरआन उतारी है और हम ही इसके रक्षक हैं।” (कुरआन :१५:९)

कुरआन दिव्य; उतपरिवर्तित। कुरआन ऐसी चमत्कार है जो समय की कसौटी और ज्ञान के विस्तार को पराजित कर लिया है। “वास्तव में, हमने ही ये कुरआन उतारी है और हम ही इसके रक्षक हैं।” (कुरआन :१५:९) Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

खतरे को न मोल लें। गाड़ी चलाते वक्त मोबाईल फोन का उपयोग न करें। हमें और दूसरों को सुरक्षा प्राधान्य है।

खतरे को न मोल लें। गाड़ी चलाते वक्त मोबाईल फोन का उपयोग न करें। हमें और दूसरों को सुरक्षा प्राधान्य है। Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

फायदा उठाये नुकसान से पहले। बुढ़ापे से पहले युवावस्था का, बीमारी से पहले स्वास्थ्य का, गरीबी से पहले समृद्धि का, व्यस्त से पहले आराम का, मृत्यु से पहले जीवन का।

फायदा उठाये नुकसान से पहले। बुढ़ापे से पहले युवावस्था का, बीमारी से पहले स्वास्थ्य का, गरीबी से पहले समृद्धि का, व्यस्त से पहले आराम का, मृत्यु से पहले जीवन का। Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

जिस व्यक्ति के माता-पिता या उनमें से कोई वद्धावस्था में होने के बावजूद भी वह स्वर्ग नहीं पाता है तो उसके लिए। बर्बादी, बर्बादी, बर्बादी है।” (हजरत मुहम्मद ﷺ)

स्वर्ग नष्ट न करे। ” जिस व्यक्ति के माता-पिता या उनमें से कोई वद्धावस्था में होने के बावजूद भी वह स्वर्ग नहीं पाता है तो उसके लिए। बर्बादी, बर्बादी, बर्बादी है।” (हजरत मुहम्मद ﷺ) Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

जीवनसाथी में अच्छाई खोजें और खुश रहें। ” एक विश्वासी को अपनी पत्नी से घृणा नहीं करनी चाहिए। अगर उसका एक व्यवहार संतोषजनक नहीं है तो दूसरा होगा।” (हजरत मुहम्मद ﷺ)

जीवनसाथी में अच्छाई खोजें और खुश रहें। ” एक विश्वासी को अपनी पत्नी से घृणा नहीं करनी चाहिए। अगर उसका एक व्यवहार संतोषजनक नहीं है तो दूसरा होगा।” (हजरत मुहम्मद ﷺ) Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

हर पल कीमती है। जीवन के वृक्ष से समय के पत्ते झड़ते है। “अतः जब निवृत हो तो परिश्रम में लग जाओ।” (कुरआन ९४:७)

हर पल कीमती है। जीवन के वृक्ष से समय के पत्ते झड़ते है। “अतः जब निवृत हो तो परिश्रम में लग जाओ।”  (कुरआन ९४:७) Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com