पोस्ट 3 – इस्लाम और हमारा घर

*पोस्ट 3⃣*

*”इस्लाम और हमारा घर”*

           *घर वालों की*
*तालीम और उनकी तरबियत*

*”घर वालों को दीन सिखाना”*

*”अल्लाह तआ़ला ने फ़रमाया:”*
*ऐ ईमान वालों ! तुम अपने आप को और अपने घर वालों को जहन्ऩम की आग से बचाओ ।*
*(सूरह अल तहरीम 66)*

*अली रज़िअल्लाहु अ़न्हु  (قُوۡۤا  اَنۡفُسَکُمۡ  وَ اَہۡلِیۡکُمۡ  نَارًا) की तफ्सीर में फ़रमाते हैं:*
*अपने आप को और अपने घर वालों को भलाई की तालीम दो ।*

*(इमाम ज़हबी ने तलखीस में बुखारी व मुस्लिम की शर्त पर कहा है ।)*
*(हाकिम 3826)*
*——J,Salafy✒——*
*▪शेयर करें▪*

*जिस शख़्स ने किसी नेकी का पता बताया, उसके लिए (भी) नेकी करने वाले के जैसा अजर हैं।*
*(स़ही़ह़ मुस्लिम: ज़ी. 3, हदीस 4665)*

इस्लाम और हमारा घर
Comments (0)
Add Comment


Related Quotes