धर्म आत्मज्ञान के लिए है। “आस्था, कर्म और संस्कृति का संगम जब होता है तब धर्म प्रबुद्ध होता है। इन में से एक की भी कमी धर्म की आत्मा को नष्ट कर देती है।

आलोक धर्म आत्मज्ञान के लिए है।

“आस्था, कर्म और संस्कृति का संगम जब होता है तब धर्म प्रबुद्ध होता है। इन में से एक की भी कमी धर्म की आत्मा को नष्ट कर देती है।”

Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

AlokHindi Hadeesआलोकधर्म
Comments (0)
Add Comment


Related Quotes